Wednesday, December 8, 2010

कामयावी का सत्य

है वही सूरमा इस जग में जो अपनी राह बनता है ..
कोई चलता पद चिन्नोह पर कोई पद चिन्ह बनता है.....

KALPANA CHAWALA


3 comments:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

Bahut sunder....

विजय प्रताप सिंह राजपूत (निकू ) said...

बेहतरीन प्रस्तुति ।

राकेश कौशिक said...

है वही सूरमा इस जग में जो अपनी राह बनाता है कोई चलता पद चिन्हों पर कोई पद चिन्ह बनाता है

प्रेरक सन्देश - नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं